Saturday, December 16, 2006

रात कहती है कहानी,


( this is a wash method water color painting done by my amma Smt. Susheela Narendra Sharma )
रात कहती बात प्रियतम,
तुम भी हमारी बात सुन लो,
थक गये हो, जानती हूँ,
प्रेम के अधिकार गुन लो !
है रात की बेला सुहानी,
इस धरा पर हमारी,
नीँद से बोझिल हैँ नैना,
नमन मैँ प्रभु मनुज के!
रात कहती है कहानी,
थीस्वर्ग की शीतल कली,
छोड जिसको आ गये थे-
उस पुरानी - सखी की !
रात कहती बात प्रियतम !
तुम भी सुनो, मैँ भी सुनुँ !
हाथ का तकिया लगाये,
पास मैँ लेटी रहूँ !

5 Comments:

Blogger Dr.Bhawna said...

बहुत खूब लावन्या जी।

9:11 AM  
Blogger antarman said...

Thank you jee --
sa - sneh,
L

2:08 PM  
Blogger tushar said...

kya sundar kavita aur kya subdar chitra!

7:19 PM  
Blogger lucky said...

yeh kavita bahut hi sunder h
i like

2:42 AM  
Blogger lucky said...

kavita bahut sunder h
i like

2:43 AM  

Post a Comment

<< Home