Thursday, April 05, 2007

तसव्वुर

आपकी याद
आती है,
जैसे हल्के से ..
मध्धम सी रोशनी मेँ
मेरी ज़िँदगानी ,
मुस्काती है -
और आपके रँगीन
तसव्वुर के
दीदार से
मेरी शामेँ ,
झिलमिलातीँ हैँ !
बादेसबा इठला के,
कोई धुन,
गुनगुनाती है ~~
और न जाने कैसे,
बेइन्तहा कलियाँ,
फूल बन के,
मुस्कुराती हैँ !
-- लावण्या

14 Comments:

Blogger राकेश खंडेलवाल said...

लावण्यजी

अच्छी नज़्म है

12:16 PM  
Blogger aditi said...

very sweet n cute!!
too pure!

12:22 PM  
Blogger antarman said...

राकेश जी,
नमस्कार !
आपका आगमन इस नज्म पर हुआ तब वाकई
लिखना सफल हो गया !
आपकी हर कृति बेजोड होती हैँ !
मेरे शब्द कम पड जाते हैँ परँतु,भावनाएँ उनसे अधिक गहरी हैँ इसका विश्वास कीजियेगा -
स - स्नेह,
लावण्या

12:37 PM  
Blogger antarman said...

thanx Aditi :)
hope u liked the Pic also .
Rgds,
L

12:48 PM  
Blogger Udan Tashtari said...

बहुत सुंदर!! बधाई!

3:56 PM  
Blogger अनूप भार्गव said...

चित्र और नज़्म दोनों ही खूबसूरत हैं ।

4:55 PM  
Blogger Lavanyam-antarman-- said...

थैन्क्यू जी थन्क्यू !! ;-))
समीर भाई !

2:20 PM  
Blogger Lavanyam-antarman-- said...

बहोत शुक्रिया अनूप भाई !आप ने तशरीफ रखी तो लिखना सफल हुआ !

2:22 PM  
Blogger Harshad Jangla said...

Lavanyaji
Can you give the exact meaning/other word for Tasavvoor?
Excellent nazm.

Rgds.

9:01 PM  
Blogger Hariraam said...

सचमुच 'अन्तर्मन' 'अन्तर्गगन' में उड़ने लगा है पढ़कर! ये अनुपम चित्र तो एकदम चित्तचोर हैं ही। हमें भी चोर बनने को उकसाते हैं, इन्हें चुरा लेने का जी करने लगा है।

10:10 PM  
Blogger antarman-- said...

Harshad bhai,
As per my understanding
it means the Image of some one in our memory ---
But I'll try to ask an Urdu expert
4 the satisfaction too --
Thanx !

8:11 AM  
Blogger antarman-- said...

TASVVUR KA ARTH : ~~~

Kisi ka sapna lena ya yad'dashat ko dohrana, imagination, ya kisi ki yaad men kho jana.lover ka tasveer ko khayaalon men fir lena.

[ This is the Meaning of TASVVUR -- explained by an URDU Shayar Bhai Roop Hans Habeebji ]

8:24 AM  
Blogger Dr.Bhawna said...

बहुत अच्छे भाव हैं लावन्या जी, आपको बहुत-बहुत बधाई।

1:12 AM  
Blogger antarman-- said...

भावना जी,
मेरी नज्म को पस्सँद करने का और बधाई देने का बहोत बहोत शुक्रिया !
स -स्नेह
लावण्या

10:44 PM  

Post a Comment

<< Home